Satish's blog

साहित्य संगीत कला विहीन:

  • 14 December 2016
  • Satish

साहित्य संगीत कला विहीन: साक्षात् पशु पुच्छ विषाण हीन: |

तृणं न खादन्नपि जीवमानस्तद्भागधेयं परमं पशूनाम् ॥